चल मेरे हमनशीं अब कहीं और चल,

इस चमन में अब अपना गुजारा नहीं,

बात होती गुलों तक तो सह लेते हम,

अब काँटों पे भी हक हमारा नहीं।