वाहे गुरू आशीष देना कि पूरी उम्र आपकी चरणों में गुजर जाएँ,

दीया ऐसा जलाना कि ज्ञान की पूँजी से झोली भर जाएँ,

संघर्षों की लहरों पर अनवरत चलते क्षुब्ध नाविक हम

बाँह पकड़ना ऐसे कि संसार रुपी सागर तर जाएँ.गुरूनानक जयंती की शुभकामनाएं