ये कहकर मंदिर से फल की पोटली चुरा ली माँ ने….

तुम्हे खिलाने वाले तो और बहुत आ जायगे गोपाल…

मगर मैने ये चोरी का पाप ना किया तो भूख से मर जायेगा मेरा लाल…!

 

posted by: @shubham View |

माता पिता से बढ़के जग में… है कोई भगवान नहीं….

माता पिता की सेवा से बढ़कर …जग में कुछ काम नहीं….

माता पिता को जो दुःख देता ..वो पाता सामान नहीं….

माता पिता का करे अनादर…पापी है इंसान नहीं…!!

पता नहीं कैसे पत्थर की मूर्ति…के लिए जगह बना लेते है…

घर मैं वो लोग, जिनके घर में…

माता-पिता के लिए कोई स्थान नहीं होता है.  

posted by: @shubham View |

“माँ” एक ऐसे बैंक है.. जहाँ 

आप हर भावना और दुःख जमा 

!!कर सकते है …. 

और “पिता” एक ऐसे क्रेडिट कार्ड है …. 

जिनके पास बैलेंस न होते हुए भी ….. 

सपना पुरे करने की कोशिश करते है…

posted by: @shubham View |

फूल कभी दो बार नहीं खिलते…

जन्म कभी दो बार नहीं मिलता….

मिलने को तो हज़ारो लोग मिल जाते है …..

लेकिन हज़ारो गलतियों को माफ़ करने वाले……

!! माँ बाप नहीं मिलते !!

posted by: @shubham View |

Always remember your parents are the only two people in this world, who will never let you down until the end of their time. 

They spend everything behind you only for to see you a successful person.

posted by: @shubham View |

Those grandparents and parents that don’t take the time to have a relationship with their kids and grandchildren are missing out on the best time of your life.

posted by: @shubham View |

Latest Status

  • जो बनाए हमें इंसान,

    दे सही-गलत की पहचान,

    उन शिक्षकों को प्रणाम.

    शिक्षक दिवस की शुभकामनाएं

  • शिक्षक हमें शिक्षा दो, जीवन राह दो हारे को हरिनाम दो, डूबते को सहारा दो जब भी मुश्किल आये, ज्ञान गंगा दो हे गुरुदेव हमें जीवन जीने की राह दो.

  • आप मेरे जीवन की प्रेरणा हैं,

    आप ही मेरे मार्गदर्शक हैं,

    आप ही जीवन का प्रकाश स्तंभ हैं,

    शिक्षक दिवस की शुभकामनाएं।

  • जीवन के हर अंधेरे में,

    रोशनी दिखाते हैं आप

    बंद हो जाते हैं जब सारे दरवाज़े,

    नया रास्ता दिखाते हैं आप

    सिर्फ किताबी ज्ञान ही नहीं,

    जीवन जीना सिखाते हैं आप।

    टीचर्स डे की शुभकामनाएं।


  • गुरु की उर्जा सूर्य-सी, अम्बर-सा विस्तार, गुरु की गरिमा से बड़ा, नहीं कहीं आकार।गुरु का सद्सान्निध्य ही,जग में हैं उपहार, प्रस्तर को क्षण-क्षण गढ़े, मूरत हो तैयार।