कितना समझाया दिल को कि तु प्यार ना कर;

किसी के लिए खुद को बेक़रार ना कर;

वो तेरे लिए नहीं है नादान;

ऐ पागल किसी और की अमानत का इंतज़ार ना कर!

posted by: @shubham View |

अब तो वफ़ा करने से मुकर जाता है दिल, अब तो इश्क के नाम से डर जाता है दिल, अब किसी दिलासे की जरूरत नही है, क्योंकि अब हर दिलासे से भर गया है दिल।


 

posted by: @shubham View |

दिन हुआ है, तो रात भी होगी,

मत हो उदास, उससे कभी बात भी होगी।

वो प्यार है ही इतना प्यारा,

ज़िंदगी रही तो मुलाकात भी होगी।

posted by: @shubham View |

मेरा Style 👸 मेरा Attitude 👩 मेरी Diwangi 👧तेरी औकात से बहार है जिस दिन तू ये जान जाएगा – उस दिन shocked 🙄 रह जाएगा

posted by: @shubham View |

सुन पगली पर्सनैलिटी की तो बात ही मत कर,

मैं आज भी जिस गली से निकलता हूं

तो सारी लड़की, एक ही सॉन्ग गाती हैं

बहारों फूल बरसाओ मेरा महबूब आया है

posted by: @shubham View |

“तेरी मोहब्बत में डूब कर बूँद से दरिया हो जाऊँ, मैं तुझसे शुरू होकर तुझमे खत्म हो जाऊं।”

posted by: @shubham View |

“रिश्ता दिल से होना चाहिए, शब्दो से नही, “नाराजगी” शब्दो मे होनी चाहिए, दिल मे नही..!”

posted by: @shubham View |

“कभी खामोश बैठोगे तो कभी गुनगुनाओगे, मैं उतना याद आऊंगा जितना मुझे भुलाओगे…!”

posted by: @shubham View |

सिर्फ सितारो मे ही होती मोहब्बत अगर, 💕

तो इन अल्फाजो को खूबसूरती कौन देता, 💕

बस पत्थर बन कर रह जाता ताजमहल, 💕

अगर इश्क इसे अपनी पहचान ना देता!

posted by: @shubham View |

Latest Status

  • जो बनाए हमें इंसान,

    दे सही-गलत की पहचान,

    उन शिक्षकों को प्रणाम.

    शिक्षक दिवस की शुभकामनाएं

  • शिक्षक हमें शिक्षा दो, जीवन राह दो हारे को हरिनाम दो, डूबते को सहारा दो जब भी मुश्किल आये, ज्ञान गंगा दो हे गुरुदेव हमें जीवन जीने की राह दो.

  • आप मेरे जीवन की प्रेरणा हैं,

    आप ही मेरे मार्गदर्शक हैं,

    आप ही जीवन का प्रकाश स्तंभ हैं,

    शिक्षक दिवस की शुभकामनाएं।

  • जीवन के हर अंधेरे में,

    रोशनी दिखाते हैं आप

    बंद हो जाते हैं जब सारे दरवाज़े,

    नया रास्ता दिखाते हैं आप

    सिर्फ किताबी ज्ञान ही नहीं,

    जीवन जीना सिखाते हैं आप।

    टीचर्स डे की शुभकामनाएं।


  • गुरु की उर्जा सूर्य-सी, अम्बर-सा विस्तार, गुरु की गरिमा से बड़ा, नहीं कहीं आकार।गुरु का सद्सान्निध्य ही,जग में हैं उपहार, प्रस्तर को क्षण-क्षण गढ़े, मूरत हो तैयार।