तन में मस्ती, मन में उमंग,

चलो आकाश में डालें रंग,

हो जायें सब संग-संग,

उड़ायें पतंग. हैप्पी लोहरी।।


जैसे-जैसे लोहरी की आग तेज हो, वैसे वैसे हमारे दुःखों का अन्त हो,

लोहरी का प्रकाश, आप की ज़िदगी को प्रकाशमय कर दे.