रात किया हुई रौशनी को भूल गए

चन्द किया निकला सूरज को भोल गए

मन कुछ देर हमने Sms नहीं किया आपको

तो किया आपको हम याद करना भोल गए

तन्हाई ना पाए कोई साथ के बाद

जुदाई ना पाए कोई मुलाकात के बाद

ना पड़े किसी को किसी की आदत इतनी

की हर रात में भी याद आये उसकी याद

शुभ रात्रि

आज आपकी रात की अच्छी शुरुआत हो,

 रात भर खूबसूरत सपनो की बरसात हो, 

जिन्हें आपकी निगाहे हर वक्त ढूंढती रहती हैं, 

खुदा करे आपसे उनकी सपनो में मुलाकात हो।

हमे सुलाने के ख़ातिर रात आती है,

 हम सो नही पाते और रात सो जाती है, 

हमने पूँछा दिल से तो ये आवाज़ आयी,

आज दोस्त को याद करले रात तो रोज़ आती है।