बंद किस्मत के लिये कोई ताली नही होती!

सुखी उम्मीदों की कोई डाली नही होती।

जो झुक जाए माँ -बाप के चरणों में ।

उसकी झोली कभी खाली नही होती.!

 

posted by: @shubham View |

हम उन्हे रूलाते हैं, जो हमारी परवाह करते हैं…(माता पिता)

हम उनके लिए रोते हैं, जो हमारी परवाह नहीं करते…(औलाद )

और, हम उनकी परवाह करते हैं, जो हमारे लिए कभी नहीं रोयेगें !…(समाज)

 

posted by: @shubham View |

मुफ्त में सिर्फ माँ बाप का प्यार

“मिलता है.. इसके बाद

दुनिया में हर रिश्ते के लिए

कुछ न कुछ चुकाना पड़ता है

posted by: @shubham View |

“घर जाते ही सबसे पहले सवाल…

माँ किधर हो…?

चाहे माँ से कोई काम हो या न हो…

देख कर माँ का चेहरा दिल को

सुकून और मन को ठंडक मिलती है….

posted by: @shubham View |

मैंने माँ की हथेली पर एक काला तिल देखा,

और कहा कि “यह दौलत का तिल हैं ”

माँ ने अपने दोनों हाथो में

मेरा चेहरा थामा और कहा…..

हाँ बेटा देखो मेरे दोनों हाथों में कितनी दौलत हैं

posted by: @shubham View |

फूल कभी दो बार नहीं खिलते…

जन्म कभी दो बार नहीं मिलता….

मिलने को तो हज़ारो लोग मिल जाते है …..

लेकिन हज़ारो गलतियों को माफ़ करने वाले……

!! माँ बाप नहीं मिलते !!

posted by: @shubham View |

पिता की मौजूदगी सूरज की तरह होती है,

#सूरज गरम जरुर होता है अगर न हो तो अँधेरा छा जाता है ।

posted by: @shubham View |

Everyone wants to be happy. No one wants to be sad and get pain. But you can’t make a rainbow without a little rain

posted by: @shubham View |

Latest Status

  • जो बनाए हमें इंसान,

    दे सही-गलत की पहचान,

    उन शिक्षकों को प्रणाम.

    शिक्षक दिवस की शुभकामनाएं

  • शिक्षक हमें शिक्षा दो, जीवन राह दो हारे को हरिनाम दो, डूबते को सहारा दो जब भी मुश्किल आये, ज्ञान गंगा दो हे गुरुदेव हमें जीवन जीने की राह दो.

  • आप मेरे जीवन की प्रेरणा हैं,

    आप ही मेरे मार्गदर्शक हैं,

    आप ही जीवन का प्रकाश स्तंभ हैं,

    शिक्षक दिवस की शुभकामनाएं।

  • जीवन के हर अंधेरे में,

    रोशनी दिखाते हैं आप

    बंद हो जाते हैं जब सारे दरवाज़े,

    नया रास्ता दिखाते हैं आप

    सिर्फ किताबी ज्ञान ही नहीं,

    जीवन जीना सिखाते हैं आप।

    टीचर्स डे की शुभकामनाएं।


  • गुरु की उर्जा सूर्य-सी, अम्बर-सा विस्तार, गुरु की गरिमा से बड़ा, नहीं कहीं आकार।गुरु का सद्सान्निध्य ही,जग में हैं उपहार, प्रस्तर को क्षण-क्षण गढ़े, मूरत हो तैयार।