alt

सुबह से शाम तक वाहेगुरू की कृपा,

ऐसे ही गुजरे हर एक दिन,

न कभी हो किसी से गिला-शिकवा,

एक पल न गुजरे खुशियों बिन.

Related Posts
<h4>Loading...</h4>
Copyrights © 2022