नए साल में तू फिर से संभल,

गलत काम में न तू करना पहल,

ज़माने में सब कुछ मिलेगा तुझे,

बस देखने की तू अपनी नज़रें बदल।


Related Posts

;