इकबाल था बुलंद, उसे धूल कर दिया

मद जिसका था प्रचंड, सारा दूर कर दिया

राणा प्रताप इकलौते, थे ऐसे वीर जिसने

अकबर का सारा घमंड, चूर चूर कर दिया


Related Posts