alt

शत-शत नमन उस मेवाड़ी प्रताप को

जो अपने भाले से दुश्मनों को मारे थे,

मातृभूमि की स्वतन्त्रता के खातिर

कई वर्ष जंगल में गुजारे थे.

Related Posts
<h4>Loading...</h4>
Copyrights © 2022