alt

घर घर में बाबासाहेब पहुंचे यही कोशीश है मेरी

हर जय भिम वाला सुट-बुट मे रहें यहीं चाहत हैं मेरी

भले ही कोई मुझे जय भिम ना कहे

हर अपने को जय भीम कहना आदत है मेरी

Happy Ambedkar Jayanti

Related Posts
<h4>Loading...</h4>
Copyrights © 2022