alt

कसूर तो था ही इन निगाहों का जो चुपके से दीदार कर बैठा,

हमने तो खामोश रहने की ठानी थी पर बेवफा ये जुबान इजहार कर बैठा..

हैप्पी प्रपोज डे


Related Posts
<h4>Loading...</h4>
Copyrights © 2022