alt

आपकी मुस्कान हमारी कमजोरी है.. 

कह ना पाना हमारी मजबूरी है.. 

आप क्यों नहीं समझते इस जज़्बात को.. 

क्या खामोशियों को ज़ुबान देना ज़रूरी है।

हैप्पी प्रपोज़ डे 


Related Posts
<h4>Loading...</h4>
Copyrights © 2022