alt

अब तो न दिन को करार है और न ही रात को चैन है,

अब तो बस उसकी यादों में बहते मेरी आँखों के रैन हैं।

शुभ रात्रि

Related Posts
<h4>Loading...</h4>
Copyrights © 2022