alt

रामजी की चिट्ठी सीता ते.

 मेरी प्यारी सीता तु कन छे ?

 मेंते तेरी याद ओणी चा ! 

अच्छा सुण मेरा त्वेते हनुमान बांदर मा काफल दिया छान.

 गिण ले अगर एक भी काफल कम होलू ता वे बांदर पूछड़ी माँ आग लगे दे !

 अर वे रावण तै बोली दे क़ि मेर आदमींन तू ख़तम कन 

सीता मेरी रिफिल खतम होणी चा ! आपरू ध्यान रखी ! ...


Related Posts
<h4>Loading...</h4>
Copyrights © 2022