रामजी की चिट्ठी सीता ते. मेरी प्यारी सीता तु कन छे ? मेंते तेरी याद ओणी चा ! अच्छा सुण मेरा त्वेते हनुमान बादर मा काफल दिया छान. गिण ले अगर एक भी काफल कम होलू ता वे बांदर पूछड़ी माँ आग लगे दे ! अर वे रावण तै बोली दे क़ि मेर आदमींन तू ख़तम कन सीता मेरी रिफिल खतम होणी चा ! आपरू ध्यान रखी ! ‘ तेरु राम ‘ घनघोर जगल बिटि .