कुमाऊंनी महिला का अपने पति के लिए डरावना स्टेटस…. “मी तुमुकै भौते प्यार करनू पर ध्यान धरिया- म्यर विश्वास और तुमार भांट एक्के दिन टुटाल” 🙂 🙂 🙂
मैं तो स्मार्ट फोन को उस दिन स्मार्ट मानूंगा,….. जब मैं चिल्लाऊंगा- काँ छै रे म्यर फोन….? . . . . और मेरा फोन आवाज लगायेगा— याई छु रे …. याई छु…. तकीये तली बै देख। रणकारा कभै तो आराम करन दे मैंकैनी !!
मरणैक टैम पर परदाल सोचि खिमुलि कै सच्चाई बतै द्यु पर के करछा परदा कै मरणैक टैम अणकस्से जै है पड़ो… परदा :- सुण वे त्येर सुनैक जेवर मिल बेचि ! खिमुलि :- कोई बात ने हो ! परदा :- त्येर भैक दि एक लाख रूपै ले मिलै गायब करि ! खिमुलि :- मिल तुमकु माफ करि है .तुम लै माफ करि दिया, तुमकु जहर लै मिलै दे !!
खिमदा आजकल गौं छौड़बेर दिल्ली में रौनी….. एक दिन खिमदा सोच में डूबी भै, घरवाईल पूछा …….क्ये सोच में पड़ी रछा ? खिम दा- मैं कें यो सोच लाग रईं कि यौ टेलीबिजन वालूँ कैं कसिक पत्त चलिजां कि….. घरवाई- क्ये पत्त चलूँ ? खिम दा- यौ कौनी कि आप देख रहे हैं स्टार प्लस … इनूं कैं कसिक पत्त चलूँ, हम स्टार प्लस चैनल देखण लाग रयूं
कुमाउनी में कुछ हिंदी फिल्मो के शीर्षक : १. TITANIC – नाव फरकि गे २. Anaconda – आदिम खाणी वाल स्याप ३. आवारा पगला दीवाना – पगली गियो साल ४. देवदास- शरबिया ५. अजब प्रेम की गजब कहानी – अन्कस प्यार क क्याप कहानी ६. मै हूँ ना – मी छियो ना ७. कुछ कुछ होता है – क्याप क्याप हु छ ८. धड़कन – धक् धक्काट ९. दंगल – थेचा-थेच १०. एक था टाइगर – एक छो बाघ 🙂 🙂 🙂
उत्तराखंड में पलायन के लिए आज से लगभग बीस -पच्चीस साल पहले की वे औरतें भी ज़िम्मेदार हैं, जो ज़रा -ज़रा सी बात पर अड़ोसियों -पड़ोसियों को डायरेक्ट “तेरि कुड़ि बाँजि होली ” वाली गालियाँ देती थी |
रामजी की चिट्ठी सीता ते. मेरी प्यारी सीता तु कन छे ? मेंते तेरी याद ओणी चा ! अच्छा सुण मेरा त्वेते हनुमान बादर मा काफल दिया छान. गिण ले अगर एक भी काफल कम होलू ता वे बांदर पूछड़ी माँ आग लगे दे ! अर वे रावण तै बोली दे क़ि मेर आदमींन तू ख़तम कन सीता मेरी रिफिल खतम होणी चा ! आपरू ध्यान रखी ! ‘ तेरु राम ‘ घनघोर जगल बिटि .
katrina – why are you staring at me ..? man – kat miar dagar biya karli ..? kat– sorry i don’t understand garhwali. man– kat will you marry me ..?katrina – kamina holu , ullu kapatha teyar kapal phod dyn meen.
एक Education Officer पहाडक स्कूल में एक छात्र थैं : EO – बताओ संज्ञा को english में क्या कहते हैं? छात्र – डरन डरने…. मास्सैब ना ऊन !! EO – very good बैठ जाओ………..शाबाश!!!!!!!!
एक पहाडी दम्पत्ति सैनि- हरकुवाक बाबू तौ चिट्ठी जसि कि लियख नार छा ; मैंस- हरकुवेकि इजा ठीक दियख नेर छी, चिट्ठी लियख नै रयों ; सैनि- तुमु कै लियखन ओने नै, कै हुनि लियख नार छा ? मैंस- तियार बाबू हुनि लियख नै रौ, उनु कै कौन सा पडन औं |